Write For UsPublish Your Blogs For FREE!

ध्वनि प्रदूषण है घातक

ध्वनी प्रदूषण –

Essay on Noise pollution in Hindi

मौन साधना और शांति मानव समाज एवं संस्कृति के विकास में सदैव आवश्यक रहे है | अनावश्यक शोर एवं चिल्ल्हाह्ट , न केवल व्यक्ति के व्यक्तित्व विकास में बाधक है , अपितु सम्पूर्ण प्राकृतिक संतुलन को कुप्रभावित करता है | जल और वायु प्रदूषण के साथ साथ अब ध्वनि प्रदूषण ने भी विकराल रूप धारण कर हमारी तेजी से बिगडती पर्यावरण स्थिति को और भी चिंताजनक बना दिया है |

किसी भी शहर के पर्यावरण को प्रभावित करने वाला शोर –स्तर उसके व्यापारिक ,ओधोगिक ,सामाजिक एवं सांस्कृतिक कार्यकलापो और उसके जन सांख्यिक अनुपात व् घनत्व पर निर्भर करता है | रेलगाड़ी व् हवाई जहाज की कम्पनकारी कर्णभेदी आवाजे रेडियो ,टीवी का शोर ,हल्के भारी मोटर वाहनों की कर्कश चिल्लपों व् कल –कारखाने की खट खटा खट  ध्वनी प्रदूषण के मुख्य स्र्तोत है | चाहे विवाह हो या जन्म –दिन पार्टी ,चुनाव जुलुस हो या मुंडन समारोह ,तेज आवाज में लाउड स्पीकर बजाना हमारी एक राष्टीय आदत सी हो गई है | विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 45 डेसिबल डिग्री तक का शोर ही हमारे लिए सुरक्षित बताया गया है |  मुंबई ,कलकत्ता और दिल्ली जैसे महानगरो में साधरणतः शोर डिग्री 90 डेसिबल से भी ज्यादा पाया गया है | मुम्बई विश्व में उच्चतम शोर डिग्री वाला तीसरा महानगर है |

स्वास्थ्य पर प्रभाव –

जल और वायु प्रदूषण की तरह ही ध्वनी प्रदूषण का भी हमारे स्वास्थ्य पर घातक प्रभाव पड़ता है | ध्वनि प्रदूषण से व्यक्ति की नाड़ी व् श्वांस गति तेज हो जाती है | कल कलखानो के शोर के बीच काम करने वाले लाखो श्रमिको की श्रवण शक्ति प्राय: क्षीण हो जाती है |  चिकित्सक खोज के अनुसार पाया गया है की निरंतर अत्यधिक शोरगुल के बीच रहने वाले लोगो को दिल का दौरा भी पड़ सकता है | साथ ही उन्हें उच्च रक्तचाप ,तनाव ,पेट में फोड़ा जैसे रोग भी हो सकते है | ऐसे में बहरे हो जाने का डर तो सदा ही बना रहता है|

अहमदाबाद के एक संगठन द्वरा किये गए सर्वेक्षण से ज्ञात हुआ है की हवाईअड्डे के निकट की बस्ती में श्रवण शक्ति के कुछ जन्म दोष होते है | कभी –कभी उनके बच्चे मृत ही जन्मते है या फिर कम वजन की अर्ध विकसित संतान पैदा होती है | इसीलिए संसार के कुछ बड़े महानगरो में रात में हवाई उडान पर रोक लगा दी गई | लेकिन भारत में अभी तक ऐसा नहीं हुआ है |

भारतीय संविधान में नागरिको के सात मुलभुत अधिकारों में स्वस्थ पर्यावरण में जीने का एक मुख्य मुलभुत अधिकार भी उपलब्ध है |

Author Details
Blogger

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *