Write For UsPublish Your Blogs For FREE!

ढूँढ रही मैं बावरी – हिंदी कविता

ढ़ूँढ रही मैं बावरी,
अपने हिस्से का,
स्वर्णिम आकाश,
टिम-टिम करते तारे,
हाय! सुख-दुख के,
बन गए पर्याय ,
तम घनेरा ऐसे ,
छाय जैसे चन्द्र में
ग्रहण लग जाए,
मौसम आए मौसम जाए,
कभी न सरसो फूली हाय!
हरियाली की एक नज़र को,
तमन्नाएँ तरसती रह जाएँ,
झूम कर बारिश की आशाएँ,
बादल गरजें और बूँद-बूँद,
गिर कर रह जाए,
एक बूँद भी अगर,
मिल जाए,समझो,
जीवन तृप्त हो जाए,
ख्यालों के विस्तृत ,
दायरे में ढ़ूँढू अपना ,
परिचय मिल न पाए,
दशकों से मैं  बावरी,
ढूँढ रही अपने हिस्से,
का स्वर्णिम आकाश,
जब भी पाऊँ, धूमिल,
हीं पाऊँ, ढूँढू और,
ढूँढती हीं जाऊँ ।।

Author Details
Blogger

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *